मंगलवार, 19 नवंबर 2019

मर्द को दर्द भी होता है!

ये तो हम जानते ही हैं कि 19 नवंबर को 'अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस' के रुप में विश्वभर में मनाया जाता है। इस विशिष्ट दिवस की संकल्पना पुरुषों के साथ होने वाली असमानता, हिंसा, उत्पीड़न, और शोषण को रोकने के लिए तथा उन्हें समान सामाजिक अधिकार दिलाने के उद्देश्य से की गई थी। प्रत्येक वर्ष इसकी थीम अलग होती है। इस बार है - "Making a difference for Men and Boys." 
चूँकि 'अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस' कई वर्षों से चला आ रहा था अतः लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के लिए इस दिवस की माँग उठी थी। अवसाद के मामलों में वृद्धि देखते हुए भारत में 2007 में पहला 'मानसिक स्वास्थ्य कानून' बना तथा इस दिवस को मनाना भी 2007 से ही प्रारम्भ हुआ।
यूनेस्को द्वारा सहयोग प्राप्त इस दिवस को मनाने के मूल में यह है कि घर, परिवार और समाज में उनके सकारात्मक सहयोग को सराहा जाए। उनके भावनात्मक पक्ष पर ध्यान दिया जाए तथा उनकी स्वास्थ्य सम्बन्धी एवं मानसिक परेशानियों पर भी चर्चा हो।


स्पष्ट है कि हम हर कार्य की अपेक्षा सरकार से नहीं कर सकते हैं और जब यह पारिवारिक स्तर पर प्रारम्भ हो तभी एक स्वस्थ, संतुलित और ऊर्जावान समाज की सोच सार्थक होगी।
हम अपना सहयोग निम्न प्रकार से दे सकते हैं -
* माँओं को चाहिए कि वे अपने बेटे को रोते हुए देख कभी ये न कहें कि "अरे! लड़का होकर रोता है!" रोने दीजिये उसे। ऐसे ही भावनाएँ निकलती हैं और दुःख बह जाता है। हमें उन्हें पाषाण एवं संवेदनहीन नहीं बनाना है कि वे किसी का दर्द समझ ही न सकें कभी।

*घर के कार्यों में भी पूरा सहयोग लें। जिससे बाद में बाहर जाएँ तो सब मैनेज कर सकें।

* उन्हें स्वस्थ रहने की सलाह दें, खलीनुमा बनने की नहीं। मजबूत दिखने के चक्कर में कई बार लड़के घातक दवाइयों एवं स्टीरॉइड के फेर में पड़  जाते हैं। ऐसे में जिम वाले इसका पूरा लाभ उठाने में नहीं चूकते!

* स्त्रियों को चाहिए कि वे पुरुष को अपनी हर समस्या का 'समाधान केंद्र' न समझें। कभी उनकी भी सुनें। परेशानियाँ उनके जीवन में भी उतनी ही हैं। आपकी समस्याओं और रोज के बुलेटिन में उलझ वे अपना ग़म बाँट ही नहीं पाते कभी! दर्द उन्हें भी होता है, डर उन्हें भी लगता है पर आपकी रोज की हाहाकार ने उन्हें सुपरमैन, बैटमैन और चाचा चौधरी बना डाला है।

* केवल स्त्रियाँ ही नहीं, पुरुष भी शारीरिक-मानसिक शोषण, घरेलू हिंसा, उत्पीड़न एवं भेदभाव के शिकार होते हैं। परन्तु हमारे समाज का ढांचा कुछ ऐसा है कि इनके दर्द भरे किस्से दबा दिए जाते हैं या फिर उनका उपहास उड़ाया जाता है। सुना होगा न, "अरे, कैसा मरद है रे तू? एक लड़की से थप्पड़ खा लिया!", "कहाँ गई तेरी मर्दानगी!" अरे भई! वो भी मनुष्य ही है कोई बुलेटप्रूफ़ जैकेट नहीं! उसके मस्तिष्क में अपने अनर्गल विचारों का कचरा मत डालिये। पुराने डायलॉग भूलकर समझ लीजिये कि 'मर्द को दर्द भी होता है' अतः उनकी पीड़ा को समझ उस पर प्रेम का मरहम रखिये। तानों का तम्बूरा न बजाइये।

*आत्महत्या और हत्या का अनुपात भी इन्हीं का सर्वाधिक है। आख़िर यह अवसाद कहाँ से उपजा है? इनकी कुंठाओं की जड़ों में जाना आवश्यक है और उससे पहले इन्हें समझना जरुरी है। देखिये कहीं आपकी भौतिक अभिलाषाओं का बोझ इन पर भारी तो नहीं पड़ रहा!

* आपके Vacation Plans  उन पर लादे नहीं! उनकी छुट्टियों से सामंजस्य स्थापित करने का प्रयास करें। इधर आप घूमने को लेकर झगड़ रहीं हैं और उधर वो बॉस से परेशान है। हाँ, यदि वे कामचोर हों और हर माह दस छुट्टियाँ लेकर घर बैठें तो उन्हें देश के विकास का पाठ अवश्य पढ़ाइये। :)


यूँ मैं स्त्रीवादी/पुरुषवादी सोच न रखकर मानववादी सोच की पक्षधर हूँ पर जब आप हमें दिल से शुभकामनाएँ देते हैं तो हमारा भी कुछ फ़र्ज़ बनता है। इसलिए आप सभी को 'पुरुष दिवस' की अपार शुभकामनाएँ।
एक अच्छे समाज के निर्माण के लिए स्त्री-पुरुष दोनों की ही उपस्थिति और सहयोग के बराबर मायने हैं। फ़िलहाल ऐसा समाज कल्पना भर है। 
- प्रीति 'अज्ञात'
#International_Men's_Day   #स्त्री_पुरुष #अंतरराष्ट्रीय_पुरुष_दिवस
Photo Credit: Google 

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 21.11,2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3526 में दिया जाएगा | आपकी उपस्थिति मंच की गरिमा बढ़ाएगी

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  2. ये सब एक ढकोसला लगता है , कागजी घोड़ा मात्र

    जवाब देंहटाएं

  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २२ नवंबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. बेहद उम्दा....

    आपका मेरे ब्लॉग पर स्वागत है|

    https://hindikavitamanch.blogspot.com/2019/11/I-Love-You.html

    जवाब देंहटाएं